बनकर दिया तुम जलते रहो

बनकर दिया तुम जलते रहो जग को जगमग करते रहो हमेशा आगे बढ़ते रहो खुद को पग-पग पर सोचते रहो बनकर दिया तुम जलते ….! livepathshala पर प्रकाशित सभी  hindi poems गर है भुजाओ में दम तुम्हारे या भीतर तुम्हारे दमकल की पावक है जूनून की वो ललक बस तुम उसको चीरते चलो बनकर दिया […]

Read More

शरबतो के रंग में तुम खो ना जाना

शरबतो के रंग में तुम खो ना जाना बेगानी सी हवाओ में तुम खुद को भूल ना जाना … ये होती तो बङी मदहोश , करती सबको बेहोश मगर तुम इस बेहोशी में खुद को भुल ना जाना शरबतो के रंग में तुम खो ना जाना. . livepathshala पर प्रकाशित सभी  hindi poems मिलते है […]

Read More

जहाँ दो लोगो के बीच अधिक प्यार होता है

जहाँ दो लोगो के बीच बहुत अधिक प्यार होता है वहाँ क्या होता है ? एक साधु महात्मा अपने शिष्यों के साथ एक गांव से गुजर रहे थे, तभी  एक पति -पत्नी को आपस मे झगड़ते देख,उनके एक शिष्य ने उनसे पूछा ‘‘ गुरूजी यह दोनो पास-पास खड़े हैं, फिर एक दूसरे तक अपनी बात […]

Read More

मैं हूँ क्योंकि, हम हैं

 मैं हूँ क्योंकि, हम हैं !  उबुन्टु ( UBUNTU ) एक सुंदर कथा…! उबुन्टु ऑपरेटिंग सिस्टम ( Ubuntu Operating System ) जानते हैं, किससे प्रेरित है इस ऑपरेटिंग सिस्टम का नाम ? कुछ आफ्रिकन आदीवासी बच्चों को एक मानव  विज्ञानी ने एक खेल खेलने को कहा। उसने एक टोकनी में मिठाइयाँ और कैंडीज एक वृक्ष […]

Read More

ऊपर वाला जब देता है तो

ऊपर वाला जब देता है तो छप्पर फाड़ के देता है । एक बार किसी राज्य का राजा एक नगर में भृमण कर रहा था। राजा अक्सर गाँव-गाँव जाकर लोगों की समस्या को सुनता और उनमें सुधार की पूरी कोशिश करता। उसके कर्तव्यपरायण के चर्चे दूर देशों तक फैले हुए थे। ऐसे ही गाँव में […]

Read More

कदम रखो अपना ऐसा

कदम रखो अपना ऐसा जिसे कोई हटा न सके दृढ़प्रतिज्ञ बनकर कुछ करो वैसा जिस कोई कर न सके…… livepathshala पर प्रकाशित सभी  hindi poems रहो इस धरा पर तुम वेसे जिसे कोई हरा न सके कभी न करो घमंड ऐसा जिससे तुम्हे नष्ट होना पडे…   उगता सूरज करता है इशारा उसकी तरह तुम […]

Read More

हमें बिना डरे

हमें बिना डरे बहुत पुरानी बात है, एक बहुत घना जंगल हुआ करता था । एक बार किन्हीं कारणों से पूरे जंगल में भीषण आग लग गयी। सभी जानवर देख के डर रहे थे, की अब क्या होगा? थोड़ी ही देर में जंगल में भगदड़ मच गयी सभी जानवर इधर से उधर भाग रहे थे, […]

Read More

आज वही बचपन याद आ गया

आज वही बचपन याद आ गया… जनम मरण के बंधन को आज कोई तीर सा मिल गया लहरो भरी हवाओ को जैसे कोई सुर सा मिल गया लगा कुछ ऐसा नवजीवन सा आ गया आज वही बचपन याद आ गया… livepathshala पर प्रकाशित सभी  hindi poems हुए घन भी घने पराए भी बने अपने विलोचन […]

Read More

ये कैसी क़यामत आई है

ये कैसी क़यामत आई है लोटा बचपन एक नई जवानी आई है अनजाने है लोग यहाँ ये कैसी क़यामत आई है livepathshala पर प्रकाशित सभी  hindi poems लोटा बचपन एक नई जवानी आई है अनजाने है लोग यहाँ पर ये केसा सिलसिला लाई है ये कैसी क़यामत आई है…. अजनबी है दुनिया यहाँ बेगानी सी […]

Read More

तू अकेला बढ़ता जा

तू अकेला बढ़ता जा राह की मुसीबतो पर चढ़ता जा जो बडा हुआ सिर पर तेरे बोझ चढा तू इसे धैर्य से लाँगता जा तू अकेला बढ़ता जा…… आती है कई उलझने तू उन पर अमल करता जा जो तू सोचता वह तू करता जा एक दिन समस्या तू अपनी बना फिर उस पर तू […]

Read More

सच मे मुस्कराते हुये आप

सच मे मुस्कराते हुये आप …………….. इसे पढ़ने से पहले , थोड़ा रुकिये और मुस्कराइये ,                           अरे आप आगे मत भागो यह ब्लौग  कहीं नहीं जाने वाला , आप तो वस एक बार दिल से मुस्करा दो ।,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, ”ये हुई […]

Read More

किसी पर विश्वास करने से पहले

किसी पर विश्वास करने से पहले……….अपने करीबी दोस्त पर विश्वास करने से पहले…..किसी पर भी खासतौर पर अपने करीबी दोस्त पर विश्वास करने से पहले यह कहानी जरूर पढ़ें   नदी के किनारे एक बिच्छू ने मेंढक से बड़ी विनम्रता के साथ पूछा ‘‘ भाई मुझे तुम्हारी मदद की जरूरत है‘‘ ‘‘ मैं तुम्हारी क्या मदद कर […]

Read More

वह कठिन से कठिन कार्य कर सकता है।

वह कठिन से कठिन कार्य कर सकता है। हाथी की वह कहानी जो आपने नहीं सुनी होगी  एक राजा के पास बहुत सारे हाथी थे, पर उनमे से एक हाथी उनका सबसे प्रिय था क्येांकि वह राजा को कई यु़द्धों में विजय दिला चुका था । राजा ने प्यार से उसका नाम गजराज रखा था । […]

Read More

चल रहा आज भी

चल रहा आज भी, गांधी जी बंद जिसको कर गये। livepathshala पर प्रकाशित सभी  hindi poems जीते जी लड़े बदलाव को, बदला कुछ नहीं, पर वो गुजर गये। हाँ बदला है शासन का नाम, स्वदेशी लुटेरे बने, विदेशी निकर गये। सीधे-सीधे बनते थे जो, जीतते ही चाल उनके बिगड़ गये।। वादे पे वादे अंबार लगा […]

Read More