samah ka mehtav

समय का महत्व – सफलता के लिए

” जो समय बचाते हैं वह धन बचाते हैं और बचाया हुआ धन कमाए हुए धन के बराबर है “
– महात्मा गांधी

samah ka mehtav

आज किस आर्टिकल में हम जानेंगे कि हम वक्त की बचत कैसे करें जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि हम ज्यादा से ज्यादा अपना समय व्यर्थ के कार्यों से हटाकर महत्वपूर्ण कार्यों में लगाएं लेकिन ऐसा नहीं हो पाता है ।

हमारे पास वक्त अत्यधिक मात्रा में अर्थात पर्याप्त मात्रा में होने के बावजूद भी हम इसे कभी भी महत्वपूर्ण कार्य में नहीं लगा पाते हैं।

इसलिए आज किस आर्टिकल में हम जानेंगे कि किस प्रकार आप अपने वक्त की बचत कर महत्वपूर्ण कार्यों को सही वक्त पर पूरा कर अपना जीवन सफल बना सकते हैं।

 

समय कैसे बचाएं-:

सर्वप्रथम हम आपको यह बतलाना चाहते हैं कि यदि आप अपने कार्य में व्यस्त हैं तब आप इसे समय की बचत करना नहीं कह सकते हैं । वक्त की बचत करना यह नहीं होता कि आप व्यस्त हैं ।

इसके लिए आपको यह जानना जरूरी है कि आपके पास कितना वक्त है जैसा की अज्ञात जी ने कहा है।

” आपके पास जितना समय अभी है उससे अधिक समय कभी नहीं होगा “

एक दिन आप ध्यानपूर्वक बैठकर यह यह सोचे कि आप हर रोज किन-किन चीजों में अपना वक्त जाया करते हैं । उनकी एक सूची बनाइए और उस सूची में से उन कार्यो पर टिक लगाइए जो रोज करना जरूरी है।

जो कार्य जरूरी नहीं है । उन कार्यो को क्रास करें फिर आप अपना पूरा वक्त जो व्यर्थ के कार्यो में जाया होता है । अपने जीवन के महत्वपूर्ण कार्यों को सार्थक बनाने में लगा सकते हैं।

जानिए आप किस लिए व्यस्त हैं-:

हो सकता है कि आप पूरा दिन बहुत ही व्यस्तता के साथ बिताते हैं लेकिन यह जरूरी नहीं कि जो आप कर रहे हैं ।  

   वही सही हो आपको यह जानने की जरूरत है कि आप जो भी कर रहे हैं क्या वह सही है या नहीं यदि आप सोचते हैं कि आप हर रोज बहुत व्यस्त रहते हैं ।  और शाम को थक हारकर घर वापस आते हैं ।

ताकि आप लोगों को दिखा सके कि आप कितनी मेहनत करते हैं लेकिन यह जरुरी नहीं होता है ।

आपको यह जानने की जरूरत है कि आप की यह व्यस्तता आखिर किस कारण है व्यर्थ की मेहनत करने से कुछ नहीं होगा आपको जानना है । कि आप जो समय रोज जी रहे हैं । क्या वह आपके क्रियाकलापों के लिए सही है अथवा आपकी मेहनत भी समय को व्यर्थ करने में जा रही है।

” व्यस्त रहना काफी नहीं है व्यस्त तो चींटियां भी रहती हैं सवाल यह है कि हम किस लिए व्यस्त हैं “– हेनरी डेविड थोरू

हेनरी डेविड की ऊपर दी गई बात हमें यह बतलाती है कि मेहनत करना भी काफी नहीं होता है । यदि यह मेहनत हमारी सही कार्यों में व्यतीत ना हो रही हो क्योंकि आप नहीं जानते किस वक्त की बर्बादी आपको कितनी भारी पड़ सकती है। 

” वक्त को बर्बाद न करो क्योंकि जिंदगी इसी से बनी है “. – फ्रैंकलिन

समय और कड़ी मेहनत -:

समय और कड़ी मेहनत एक दूसरे के बहुत अच्छे दोस्त हैं । समय और कड़ी मेहनत सफलता के लिए किए गए प्रयास में बहुत बड़ी हिस्सेदारी निभाते हैं ।

इसलिए हमें वक्त और कड़ी मेहनत के बारे में अच्छी तरह जानने की जरूरत है। यदि आप कड़ी मेहनत करते हैं किंतु वक्त के विषय से परिचित नहीं है।

तब आप उस मेहनत को व्यर्थ में खर्च कर रहे हैं । ऐसा करने से आपको कोई लाभ नहीं होने वाला है । इसके लिए जरूरी है विशेष लक्ष्य की जिसे आपने वक्त की महानता के साथ समझा है । यदि आपने वक्त और कड़ी मेहनत को ध्यान से नहीं समझा है । तब आपको ऐसा करने की जरूरत है।

” समय हमेशा कड़ी मेहनत करने वालों का मित्र रहा है”. – अज्ञात

कई बार मनुष्य मेहनत करते-करते इतना लाचार हो जाता है कि उसे अपने आप से नफरत होने लगती है ।

वह भगवान को कोसने लगता है उसे लगता है कि उसने मेहनत करने में कोई भी कमी नहीं की है लेकिन भाग्य ने उसका साथ नहीं दिया । किंतु ऐसा हरगिज़ नहीं है क्योंकि इसमें भगवान और भाग्य का कहीं मेलजोल नहीं होता जरूरत है।

तो हमें सिर्फ यही जानने की आखिर हम अपनी वह मेहनत समय के साथ साझा करके व्यतीत कर रहे हैं । या नहीं अन्यथा आपकी मेहनत आपको निराश कर सकती है और तब वक्त आपका सबसे बड़ा शत्रु बन जाता है। 

सारा जीवन एक इंसान यही सोचने में बिता देता है कि उसने इतनी मेहनत करने के बावजूद भी वह सब क्यों नहीं पाया जो वह पाना चाहता था ।

” समय तब तक दुश्मन नहीं बनता जब तक आप इसे व्यर्थ गंवाने का प्रयास नहीं करते “
– अज्ञात

व्यर्थ की योजनाएं या समय की बर्बादी :-

कई बार हम बिना सोचे समझे व्यर्थ की योजनाओं में अपना वक्त बर्बाद करते हैं । और हम सोचते हैं कि हम कुछ करने के लिए योजना बना रहे हैं जबकि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है ।

आपको जरूरत है अपना ध्यान केंद्रित करने की और सफल जीवन के लिए उचित योजना बनाने की वक्त की बर्बादी के संबंध में जाने-माने कभी शेक्सपियर का कहना है ।

” मैंने समय को नष्ट किया अब समय मुझे नष्ट कर रहा है”- सेक्सपियर

आप अपने आज के समय को पहचाने और यह जानने की कोशिश करें कि आपका आज कितना महत्वपूर्ण है अन्यथा आप कभी भी समय का सदुपयोग करना नहीं सीख सकते हैं ।

जिसकी हमें बहुत जरूरत हैं कई बार परिस्थितियों के वशीभूत होकर हताशा और निराशा का शिकार होकर हम व्यर्थ की योजनाएं बनाने में हम अपना समय नष्ट कर देते हैं ।

जबकि हमें हर समय समय की एक-एक क्षण का महत्वपूर्ण होना सीखना है ।

” जो समय का दुरुपयोग करते हैं वही समय की कमी की सबसे ज्यादा शिकायत करते हैं”  – ब्रूयर

भगवान ने हमें यह शरीर किसी महत्वपूर्ण कार्य को अंजाम देने के लिए दिया है ना कि व्यर्थ में वक्त जाया करके इस जीवन को गुजारने में।

” जीवन छोटा ही क्यों न हो समय की बर्बादी से वह और भी छोटा हो जाता है”
– जॉनसन

इसलिए हमें यह जानने की जरूरत है कि हम वक्त का उपयोग सदुपयोग या दुरुपयोग कर रहे हैं ।

” समय का सदुपयोग करना समय को बचाना है ” – बेकन

क्या हो यदि वक्त का दुरुपयोग हो-:

” एक युग विशाल नगरों का निर्माण करता हैं एक क्षण उसका ध्वंस कर देता है” – सेनेका

यदि हम वक्त की बर्बादी करते हैं तब यह हमें बहुत ही महंगा पड़ सकता है । जैसा कि ऊपर दी गई महान बात में बतलाया गया है । सफलता पाने के लिए हमें बहुत मेहनत करनी पड़ती है । तब जाकर कहीं सफलता की इमारत खड़ी होती है।

लेकिन समय एक ऐसी चीज है यदि हम इसका ख्याल सफलता की इमारत बनाते समय नहीं रखेंगे । तब यह उस इमारत को हमेशा हमेशा के लिए बर्बाद कर सकती है।

और ऐसा करने में समय को जरा भी समय नहीं लगता है समय सबसे बलबान चीज है।

इसे हमें कभी भी व्यर्थ नहीं करना चाहिए बल्कि इसकी महिमा को समझते हुए कार्य करते रहना चाहिए।

समय की बरबादी हमें कभी भी आगे बढ़ने की राह नहीं दिखा सकती इसलिए ध्यान रखें कि आपका समय कहीं व्यर्थ तो नहीं जा रहा है।

एक इंसान थक हारकर परेशान होकर जब चकनाचूर हो जाता है तब जाकर कहीं वह सोचता है कि आखिर उसने जो मेहनत की उसमें वह सफल क्यों नहीं हो सका । तब जाकर उसे पता चलता है कि उसने समय तो लगाया लेकिन व्यर्थ के कार्य में करने के लिए जब इंसान को यह बात समझ में आती है।

तब तक वह इतना कमजोर हो चुका होता है कि वह दोबारा सफर करने के लिए तैयार ही नहीं हो पाता है ।

अब बुढ़ापे की ओर अग्रसर हो जाता है और आप उसे दोबारा कभी भी सफलता की राह में चल पढ़ने के लिए हिम्मत नहीं मिलती है।

जब तक आप को यह एहसास हो कि आप मेहनत कर रहे हैं तब आपको जरूरत है कि आप क्या मेहनत कर रहे हैं आपकी क्या योजनाएं हैं।

आप उन योजनाओं के लिए जो मेहनत कर रहे हैं । क्या वह सही है या गलत इन बातों को सोचना वक्त की बचत करने की ओर पहला कदम है जैसे हमें अभी करने की जरूरत है।

” समय पर काम नहीं करने से व्यक्ति लाभ और उन्नति से कोसों दूर रहता है “
– बाबा फरीद

 

written by
piyush tiwari
 
 
 
Piyush Ashok Tiwariअगर आपके पास भी हिंदी में कोई आर्टीकल है जो आप livepathshala.com पर पोस्ट करना चाहते हैं। तो आप अपना लेख हमें भेज सकते हैं । पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ पोस्ट करेंगें।
आप अपना लेख हमारे पास भेजने के लिए नीचे दी लिंक पर क्लिक करें।
Post your article/ अपना लेख हमारे पास भेजने के लिए यहाँ क्लिक करें
आपको यह आर्टीकल पसंद आया, तो इसे like, share and comments जरूर करें

share your thoughts

comments