भाग्य को बदलने का रहस्य

इस लेख में हम आपको भाग्य बदलने का रहस्य बताने जा रहे हैं।
अगर आपको लगता है कि आप बहुत कुछ करना चाहते हो लेकिन भाग्य आपका साथ नहीं दे रहा है ।livepathshala fate

आप यह मानते हो कि जीवन में सफलता के लिए भाग्य बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण होता है।
तब इस आर्टीकल को आप ध्यान से पढ़े और गहराई से समझने की कोशिश करें ।

सबसे पहले हम आपको एक  प्रेरक कहानी बताना चाहते हैं जिससे आपको इसे समझने में आसानी होगी।

एक शहर में दो दोस्त रहते थे, एक का नाम मोहन और दूसरे को सोहन था।
एक दिन वह दोनों पहाड़ी पर बने मंदिर पर घूमने गये, वहाॅ उन्हे एक साधु मिला, जो ज्योतिष के आधार पर लोगों का हाथ देखकर उनका भविष्य बताता था।
दोनों ने उनको अपना हाथ दिखाया , सोहन का हाथ देखकर ज्योतिषी जी बोले ‘‘ बेटा ! तुम्हारा भाग्य श्रेष्ठ है, तुम्हे राज्य पाठ मिलेगा, तुम्हारे जीवन बहुत सारा धन और यषो-आराम है ।

    तुम्हारा जीवन सुख में बीतेगा , आज से 30 वें दिन से तुम्हारा भाग्य बदलने लगेगा और तुम्हारे पास अधिक से अधिक धन आने लगेगा, फिर तुम बहुत ही अमीर और धनवान हो जाओगे ‘‘
उस साधु की बात सुनते ही सोहन के चेहरे पर खुशी की लहर दौड़ गई और वह मन ही मन तुरंत ही आनन्दित होने लगा ।
इसके बाद मोहन ने अपना हाथ दिखाया, मोहन के हाथ की लकीरे देखते ही साधु जी के चेहरे पर चिंता और गंभीरता छा गई, और दुखी होकर साधु महात्मा बोले ‘‘ बेटा ! तुम्हारा जीवन सिर्फ एक माह का और है, इसके बाद तुम्हारी मृत्यु हो जायेगी ‘‘

दोनों अपना-अपना भविष्य जानकर वापस आ गये और अपने-अपने तरीके से अपना जीवन व्यतीत करने लगें।
28 दिन निकल जाने के बाद 29 वें दिन दोनो फिर उसी पहाड़ी पर उन साधु के पास पहॅुचे ।
सोहन ने उत्सुकता से अपना हाथ आगे बढ़ाया और बोला ‘‘ साधु महात्मा, अब आप जल्दी से यह बताइये कि कल से मेरे पास पैसा कैसे आने वाला है ? ‘‘
बिना कुछ कहे , साधु महात्मा ने मोहन की तरफ देखा जो बड़ा ही शांत खड़ा था,
उन्होने उससे पूछा ‘‘ मोहन क्या तुम नहीं जानना चाहते हो, कल तुम्हारी मृत्यु कैसे होने वाली है ? ‘‘
हाथ आगे बढ़ाते हुये मोहन बिनम्रता से बोला ‘‘ साधु महात्मा, मुझे जो भी कार्य करने थे, मैंने कर लिये हैं, कल कैसी भी मेरी मृत्यु हो उसे लेकर मेरे मन में कोई भी अस्थिरता नहीं है ‘‘
मोहन का हाथ देखने के बाद साधु महात्मा बोले ‘‘ मोहन ! यह जानकर कि 30 वें दिन तुम्हारी मृत्यु हो जायेगी, तुम दान-पुण्य करने लगे, तुमने कई गरीबों और भूखों का खाना खिलाया है और तुम्हारे इन्हें कर्मो के कारण तुम्हारा भाग्य बदल गया है और अब कल तुम्हारी मृत्यु का भाग्य टल गया है। ‘‘
फिर वह सोहन की तरफ देखकर बोले ‘‘ सोहन ! मोहन की तरह तुम्हारा भी भाग्य बदल गया है, तुम 30 वें दिन से अमीर होने लगोगे या जानकर तुमने अपने सब काम करना बंद कर दियें और तुम दिन भर शराब के नशे में बहुत सारे गलत काम करने लगे जिस कारण तुम्हारा भाग्य बदल गया है।‘‘
सोहन ने हैरान होकर कहा ‘‘ भाग्य कैसे बदल सकता है ? ‘‘
जवाब में साधु जी बोले ‘‘ भगवान के पास हमारे कर्मो का खाता होता है, उसके अनुसार 30 दिन पहले जो तुम्हारे कर्मो के खाते में अच्छे कर्म थे उसके अनुसार तुम्हें 30 वें दिन से अधिक धन की प्राप्ति होनी थी पर 30 दिन तक तुमने जो कर्म किये हैं, उससे तुम्हारें कर्म खाते में जो बुरे कर्म गये हैं उनसे तुम्हारा भाग्य बदल गया है।

भाग्य बदला जा सकता है
      हमारे कर्म ही हमारा भाग्य बनाते हैं और जो कर्मवीर होते हैं, वह अपने भाग्य के स्वयं र्निमाता होते हैं।
   जो सच्चे कर्मवीर होते हैं वे जानते हैं कि हवन, पूजन आदि की तुलना में कर्म सबसे श्रेष्ठ है, और इसलिए वे देवी-देवताओं की पूजा-पाठ करने या किसी ज्योतिष आदि के उलझन में नहीं पड़ते हैं ।

इसलिए अच्छे स्टूडेंट्स अच्छे अंक लाने, नौकरी लगने आदि के लिए यह नहीं सोचा करते की भाग्य में अगर मिलना होगी तो मिल जायेगी और नहीं होगी तो नहीं मिलेगी

वे अपनी क्षमताओं अपने प्रयास और अपनी मेहनत पर विश्वास करते हैं अगर वे लगातार असफल भी हो रहे होते हैं तो उनके मुँह से यह शब्द नहीं निकलते की उनकी किसमत में नौकरी नहीं है,

बल्की वे अपनी कमजोरी को जानकर और सही दिशा में अधिक महनत कर नौकरी पाने की कोशिश करते हैं ।

भाग्य को बदला जा सकता है अगर आप उसे बदलना चाहते हो और आपमें उसे बदलने की क्षमता है ।

याद रखें कर्म का निशाना अचूक है, आपके जीवन में जो भी होता है उसके लिए आपके कर्म ही जिम्मेदार हैं।
आपका भाग्य आपके कर्म र्निधारित करते हैं और आप को क्या और कौन सा कर्म करना है यह आप र्निधारित करते हो, इसका सीधा-सीधा मतलब है, आपका भाग्य आपके हाथ में हैं।

इसलिए भाग्य का रोना रोने से कुछ नहीं होने वाला है, उठाइये और उस कार्य में लग जाइये जो आपके आपके लक्षये तक ले जाये ।
हो सकता है कई बार मेहनत और समय ज्यादा लग जाये लेकिन आपको सफलता अवश्य मिलेगी ।

written by Manvendra Singh

अगर आपके पास भी हिंदी या english में कोई अच्छी कबिता, कहानी, या आर्टीकल है जो आप livepathshala.com पर पोस्ट करना चाहते हैं। तो आप अपना लेख हमें भेज सकते हैं । पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ पोस्ट करेंगें।

आप अपना लेख हमारे पास भेजने के लिए नीचे दी लिंक पर क्लिक करें।
Post your article/ अपना लेख हमारे पास भेजने के लिए यहाँ क्लिक करें

 

आपको यह प्रेरक आर्टीकल पसंद आया, तो इसे like, share and comments जरूर करें

 

share your thoughts

comments