किसी गंभीर निर्णय लेने से पहले कहानी को हर एक दृष्टिकोण से देखो, इसके बाद ही निर्णय लें

किसी गंभीर निर्णय लेने से पहले कहानी को हर एक दृष्टिकोण से देखो, इसके बाद ही निर्णय लें —
एक स्कूल टीचर, अपने स्कूल के पॉच बच्चों की ऑखों पर काली पट्टी बॉधकर, उन्हें क्लास के बहार मैदान पर ले गये। और उन पॉचों को बारी बारी से एक वस्तु को छू कर उसके बारे में बताने को कहा गया, कि जिसे वे छू रहे हैं वह क्या है ?
पहला बच्चा – वह उस वस्तु को छूकर कहता है यह तो एक विशाल चट्टान है।
दूसरा बच्चा – यह एक सॉप के जैसा है।
तीसरा बच्चा – यह एक पेड़ के जैसा है।
चौथा बच्चा – यह एक खम्वे जैसा है।
पॉचवा बच्चा – यह केले के पत्ते जैसा है।
इसके बाद, उनकी ऑखों से पट्टी हटाई गई, तो देखा कि उनके सामने एक हाथी था। वे सब हैरान थे, कि हाथी को वे सब क्या क्या बोल रहे थे ।
तभी उनके टीचर ने कहा –
जिसने हाथी के पेट को छुआ, उसने हाथी को विशाल चट्टान कहा।
जिसने हाथी को सॉप कहा उसने हाथी की पूछ को छुआ।
जिसने पेड़ कहा उसने पैर को छुआ।
जिसने खम्वा कहा उसने सूड़ को छुआ और
जिसने हाथी को केले के पत्ते जैसा कहा, उसने हाथी के कान को छुआ।

इस कहानी का ताथपर्य यह है कि हम जिस रूप में चीजों को देखते हैं कई बारी चीजें वैसी नहीं होती हैं।
कई बार हम किसी व्यक्ति के हाल, किसी अनोखी आदत या अलग प्रकार का व्यवहार होने के कारण है, हम उसका मजाक बनाने लग जाते हैं। जबकि हमें नहीं पता होता है उस व्यक्ति की उस हालात के पीछे क्या कारण है। कई बार कारण बहुत ही दर्द भरा होता है।

रिस्तों में यह बात और भी ज्यादा जरूरी हो जाती है क्योंकि हम अक्सर किसी की सुनी हुई बात या फिर जो कुछ हमने देखा है उस पर तुरंत अपनी प्रकृया देने लगते हैं और कई बारी हमारी प्रकिया हमारे रिस्तों को खराबया फिर उन्हें खत्म कर देती है। जबकि हमें धैर्य बनाये रखना चाहिए और किसी भी घटना या बात को अलग अलग दृष्टिकोण से देखने के बाद ही किसी नतीजे पर पहॅुचना चाहिए।
किसी गंभीर निर्णय लेने से पहले कहानी को हर एक दृष्टिकोण से देखो, इसके बाद ही निर्णय लें।। – रीज़ा के मानवेन्द्र

अगर आपके पास भी हिंदी या english में कोई अच्छी कबिता, कहानी, या आर्टीकल है जो आप livepathshala.com पर पोस्ट करना चाहते हैं। तो आप अपना लेख हमें भेज सकते हैं । पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ पोस्ट करेंगें। आप अपना लेख हमारे पास भेजने के लिए नीचे दी लिंक पर क्लिक करें। Post your article/ अपना लेख हमारे पास भेजने के लिए यहाँ क्लिक करें

share your thoughts

comments